There are three methods for extracting oil from nuts.

oil mill

There are three methods for extracting oil from nuts.
(१) Cold pressing, बीज का पेस्ट बना कर उसको दबाया जाता है इसके उच्च क्वालिटी का तेल निकालता है पर तेल कम निकलता है

(२) Expeller pressing – इसमें गर्मी का प्रयोग किया जाता है, तेल ज्यादा निकल जाता है पर क्वालिटी घट जाती है ।

(३) Solvent extraction –  इसमें सबसे ज्यादा गर्मी का प्रयोग होता है , इसके साथ पेट्रोलियम साल्वेंट भी मिलाया जाता है । इसके जयादा सबसे ज्याहा तेल निकाला जा सकता है पर निकाले हुए तेल की क्वालिटी बहुत घट जाती है आजकल जो भी तेल आप खाते है , जो भी कारखानो, मिलो में बनता है वो इसी प्रक्रिया  से निकाला जाता है ।

मतलब बाजार में जो तेल मिलता है वो सबसे घटिया तेल होता है क्योंकी वो तीसरी तकनीक से बना होता है ।
Advertisements

About Swami Devaishta

I am a osho sanyasi, yoga teacher and a homoeopath.
This entry was posted in Articles on Health, स्वास्थ. Bookmark the permalink.

3 Responses to There are three methods for extracting oil from nuts.

  1. संपर्क – तेल मिल मशीन के लिए
    TINYTECH UDYOG
    Head Office & Works:-
    Plot No.2648, Road-H, Kranti Gate,
    Lodhika G.I.D.C Metoda,
    Dist. Rajkot-360021,
    Gujarat, INDIA.

    Contact Persons:-

    Mr. Krishna Patel: – +91 9227 604045

    Mr. Sidharth Jivani: – +91 9904 225493
    Phone : +91 2827 293366
    Resi : +91 281 2574853
    Fax : +91 2827 287869
    Email : tinytech@oil-refinery.com

  2. रिफाइंड तेल स्वास्थ्य के लिए एक
    विष अमरीका में प्रकाशित “द हैन्ड बुक
    ऑफ नेचुरल हैल्थ” में डॉ. बुडविज
    ने लिखा है कि कृत्रिम
    हाइड्रोजिनेटेज फैट स्वास्थ्य के
    लिए एक विष के सिवा कुछ
    नहीं है तथा स्वस्थ और निरोग शरीर के लिए आवश्यक वसा अम्ल
    बहुत जरूरी है प्रसिद्ध डाॅ0
    योहाना बुडविज मूलतः
    वसा विशेषज्ञ थी जिन्होंने पेपर
    क्रोमेटिक तकनीक विकसित
    की है। डाॅ0 बुडविज के अनुसार रिफाईन्ड तेल स्वास्थ्य के लिए
    हानिकारक है। वैज्ञानिक
    यूडो इरेसमस की पुस्तक ‘‘फेट्स देट
    हील फेट्स देट कील’’ बताती है
    कि परिष्कृत तेल स्वास्थ्य के
    लिए हानिकारक है। रिफाइंड तेल में कैंसर पैदा करने वाले घातक तत्व
    होते है।
    गृहणियों को खाना बनाने के लिए
    रिफाइंड तेल का प्रयोग
    नहीं करना चाहिए।
    बल्कि फिल्टर्ड तेल का प्रयोग करना चाहिए। इससे
    भी अच्छा कच्ची घाणी से
    निकला तेल होता है। हमें
    कच्ची घाणी से निकला नारियल
    तेल ,सरसों का तेल या तिल का तेल
    काम में लेना चाहिए। क्योंकि ये तेल हानिकारक नहीं होते है।
    तेलों का परिष्करण एक आधुनिक
    तकनीक है। जिसमें
    बीजों को 200-500
    डिग्री सेल्सेयस के बीच कई बार
    गरम किया जाता है। घातक पैट्रोलियम उत्पाद हेग्जेन
    का प्रयोग तेल को रंगहीन और
    गन्धहीन बनाने के लिए
    किया जाता है। कई घातक रसायन
    कास्टिक सोड़ा, फोसफेरिक
    एसीड, ब्लीचिंग क्लेज आदि मिलाए जाते है
    ताकि निर्माता हानिकारक व
    खराब बीजों से भी तेल निकाले
    तो उपभोक्ता को उसको पता न
    चले। इसलिए इन तेलों को गन्ध
    रहित, स्वाद रहित व पारदर्शी बनाया जाता है। रिफाइंड,
    ब्लीच्ड एवं डिओडोराइन्ड
    की प्रक्रिया में तेल के अच्छे तत्व
    समाप्त हो जाते है व घातक जहर घुल
    जाते है।
    तेलों की शेल्फ लाईफ बढ़ाने के लिए तेलों का निकल तथा हाइड्रोजन
    की मदद से हाइड्रोजिनेशन
    किया जाता है। यह तेल सफेद ठोस
    कड़ा और देखने में घी जैसा लगता है।
    यह तेल जो कभी खराब
    नहीं होता इसमें होते है। केमिकल्स द्वारा परिवर्तित फैटी एसीड,
    ट्रांसफेट और निकिल के अवशेष
    होते है जो शरीर के लिए
    चयापचित करना कठिन है। इस
    पूरी प्रक्रिया में बीजों में
    विद्यमान वनस्पतिक तत्व , विटामिन आदि पूरी तरह नष्ट
    हो जाते है।
    सबसे बढि़या तेल जैतून का तेल
    होता है जो हमारे यहाँ बहुत
    मंहगा मिलता है,पर यह तेल पकाने
    के लिए उपयुक्त नहीं होता है इसके बाद तिल का तेल (शीसेम आयल)
    एवं सरसों का तेल खाना चाहिए।
    तलने के प्रक्रिया में तेल में मौजूद
    फैटी एसीड ट्रांस फैटी एसीड में
    बदल जाते है और उसमें उपस्थित
    सारे एन्टी आक्सीडेन्ट नष्ट हो जाते है। इसलिए
    तलना भी हानिकारक है। इसलिए
    तली-गली चीजें
    नहीं खानी चाहिए।

    -Aditya Sharma

  3. Rotary cold press cost INR 85000/- per machine ex-factory Rajkot + applicable tax.
    Power Requirement: – 5.5 kw or 7.5 H P electric motor. 3 phase, 415 volts, 50Hz (220volts, 60Hz also available)
    Machine RPM: – 36 rpm
    Batch Quantity: – 13 kg to 20kg
    Process Time required: – 30 minutes to 45 minutes.
    Oil production: – Depends on oilseeds which are to be crushed. Sesame—50%, Peanut—35%, Copra—55%
    Oil residue: – 11 %
    Temperature: – Not more than 20 deg. Celsius.
    Weight of machine: – 750 kgs
    Warranty period: – 1 year
    Delivery of Machine: – 6 days after receipt of payment we have the machines ex-stock.
    The supplied machine will be in ready to start condition.
    The oil produced from this machine has better therapeutic value, flavor and smell. Since in rotary cold press there is minimum heating during crushing all the micronutrients are preserved in this type of oil. Oil can be used as edible also.

    Krishna Patel / Pravin Jivani
    Partner
    Tinytech Udyog
    Plot no.2648, Road-H, Kranti Gate,
    G.I.D.C Metoda, Rajkot – 360 021, India
    Cell Phone: – +91 9227 604045
    Tel: – +91 2827 293366
    Fax: – +91 2827 293366
    Landline: – +91 281 2563519
    E-mail: – tinytech@oil-refinery.com
    Web: – http://www.oil-refinery.com / http://www.edibleoilrefinery.com

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s